कृपा करी दीनानाथ - श्याम कुँवर भारती

 | 
pic

कृपा करी दीनानाथ अरघ करी स्वीकार!

उगी हाली सूरज देव करी दूर अन्हार !

सजना हमार माई सीमवा पर शोभेले !

सिंहवा दहाड़ पिया दुश्मनवा के खोजेले !

लेई ला अरघ  माई सुना विनती हमार!

पहिले अरघ नाम सजना के चढ़ाईब !

दूसर अरघ सास ससुर अंगना के चढ़ाईब!

तीसर अरघ देवे बलका बा तैयार!

खुश होईहा छट माई किरीपा एतना करीहा !

घरवा के संगवा खुशहाल हमरे वतना के करीहा !

मांगी वरदान माई बनावा देशवा जगवा सरदार!

- श्याम कुँवर भारती ( राजभर ), बोकारो झारखंड